Raj Yadav Success Story : कभी 80 रूपए कमाता था, आज 80 लाख सैलरी देता हूं

Raj Yadav Success Story : राज यादव उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के एक बहुत ही इंटीरियर गांव चमरहा नाम है और ओ वहां से बिलॉन्ग करता है राज यादव के पिताजी मुंबई फिनिक्स मिल में लेबर हुआ करते थेगुजरा करने के लिए इतनी जमीन ज्यादा नहीं था कि हम लोग खेती कर सके तो जीवन जी सके के सबसे इंपॉर्टेंट क्या होता है गांव या शहरों के लोग चाय पान की दुकान खोल देते हैं या सब्जी की दुकान खोल लेंगे या टायर पंचर यही सब ऑप्शंस होते हैं |

उनके पिताजी ने भी एक चाय पान की दुकान खोली और उसे दुकान में काम करने लगे और काम करके वह डेली 100 या ₹200 कमा लेते थे लेकिन इतना काफी नहीं था जीवन यापन के लिए तो राज के पिता ने राज यह दुकान तुम संभालो और फिर क्या राज सुबह के टाइम में दुकान पर काम करके दिन में स्कूल जाता है

और वापस शाम को फिर से उसी दुकान पर काम करने के लिए आ जाता है की तरह से ऑफिस समय तक चलता रहा लेकिन एक समय ऐसा है जब राजू ने देखा कि हमारे पास इनकम कुछ भी नहीं हो रहा है और बगल में एक समोसे की दुकान है जो अच्छी खासी इनकम कर लेता है|

राज यादव फॅमिली : Raj Yadav Success Story

राजू यादव की फैमिली की बात करें तो उनकी फैमिली में पापा राजू उनका एक छोटा भाई और एक छोटी बहन है, राजू का परिवार एक गरीब परिवार था एक समय ऐसा था कि राजू के परिवार को खाने के लिए दो वक्त की रोटी नहीं थी लेकिन आज के समय में राज्यों के पास ऐसा कोई सालों सूरत नहीं है जो वह नहीं कर सकते हैं आज के समय में वह अपनी लाइफ को बहुत ही अच्छी तरह से जी रहे हैं

राज यादव ने बताया 3 राज जिससे वह चाय बेचने से 300 करोड़ के सफ़र तक पंहुचा

राजू यादव ने एक वीडियो के दौरान की तीन बातें बताई है जिससे उन तीन बातों को लेकर राजू आज इस इतने बड़े मुकाम तक पहुंचा है अगर वह तीन बातें उनके सामने ना आती तो शायद वह आज इस मुकाम तक न पहुंचने हर किसी की तरह गांव में रहकर छोटे-मोटे काम करके अपना जीवन यापन कर लेते.

बात उसे समय की है जब राजू अपनी चाय की दुकान पर काम करता था तो वह समोसे की दुकान खोलने के लिए अपनी ही दुकान से हर दिन 10 से ₹20 चुराकर के नहर के पास छुपा देता था लेकिन एक दिन ऐसा हुआ कि उसे नहर की सफाई होने के कारण उसका पूरा पैसा गायब हो गया उसके बाद वह अपने दोस्त से कुछ पैसे उधार मांगने की कोशिश की उसके दोस्त में पैसे देने के लिए हाथ कर लिया लेकिन उसे तीन से चार मठ तक देने का वादा ही करता रहा लेकिन वह पैसा नहीं दिया जिसके कारण पहली बार राजू का सपना टूटा

एक बार ऐसे गांव की सब महिलाएं बात कर रही थी तभी राजू की मां उधर से गुजर रही थी वह सुनती है कि सभी महिलाएं बात कर रही है कि मेरा बेटा इंजीनियर बन गया जब यह बात राजू की मां सुनती है तो वह अपने आप से सोते हैं कि क्या मेरा बेटा इंजीनियर नहीं बन सकता जब राजू घर आता है राजू की मां राजू से बोलता है

कि बेटा क्या तुम इंजीनियर नहीं बन सकते राजू ने बोला क्यों नहीं बन सकते इसके लिए हमें और पढ़ाई करने की जरूरत पड़ेगी तो राजू की मां ने कहा कि बेटा तुम्हें जो भी करना पड़े तुम करो लेकिन तुम्हें इंजीनियर ही बनना है और इस बार राजू ने अपनी लाइफ की शुरुआत की

अगर तीसरी ट्रेनिंग की बात करें तो राजू जब अपनी बीटेक में एडमिशन ले लिया उसके बाद जब वह पहले दिन क्लास लेने गया तो उसकी क्लास में जो मैडम में आया पूरी क्लास को इंग्लिश में पढ़ाया तो उसे समय राजू को कुछ भी नहीं समझ में आया तब राजू ने यह सोच कि मैं या डिसीजन लेकर शायद अपने जीवन का सबसे गलत कदम उठा लिया लेकिन राजू ने हार नहीं माना और वह अगले दिन से मेहनत करना स्टार्ट कर दिया.

राज यादव ने आईटी कंपनी से रिजाइन क्यों दिए

सब कुछ अच्छा चल रहा था लेकिन राज यादव के मन में अचानक एक सवाल आया उन्होंने अपने आप से सवाल किया कि अब तक मेरा सब कुछ अच्छा चल रहा है क्यों ना हम अपना खुद का स्टार्टअप शुरू करें वह सवाल आते ही उन्होंने अपना राधे-रात डिसीजन लिया

और सुबह होते ही अपनी कंपनी को रिजाइन लेटर लिख दिया रिजाइन लेटर लिखते ही कंपनी में खलबली मच गई कंपनी के सीईओ ने राज यादव से कहा कि आपको कंपनी का सीईओ बना देते हैं आप कंपनी को मत छोड़ो लेकिन राज यादव ने पूरी तरह से मन बना लिया कि अब वह खुद का स्टार्टअप शुरू करेंगे|

Raj Yadav Success Story

इसके बाद कंपनी ने मान लिया और कंपनी के 30 दिन का पीरियड पूरा करने के बाद वह कंपनी से रिचार्ज कर देते हैं और फिर वह अपना खुद का स्टार्टअप करते हैं पहले वह अपनी कंपनी में इकलौते थे उसके बाद धीरे-धीरे करके लोग आने लगे और एक समय ऐसा आया कि उनकी कंपनी में ढाई सौ से 300 लोग काम करने लगे थे जिससे उनकी कंपनी देखते ही देखते करोड़ों रुपए का टर्नओवर करने लगे और सब कुछ अच्छा चलने लगा |

राज यादव ने खुद की आईटी कंपनी को क्यों छोड़ा ?

जब यार राज यादव ने आईटी कंपनी में रिजाइन दिया और अपनी खुद की कंपनी को शुरू किया उसके बाद सब कुछ अच्छा चल रहा था तो एक बार वह अपने गांव के जब प्रारंभिक शिक्षा की शुरुआत की थी उन्होंने देखा कि स्कूल के पांडे पर कुछ खास था उसे काटने के लिए अपने पिता से कैंची मारते हैं और कैसी घर पर न होने के कारण वह अपने छोटे भाई को मार्केट भेजते है लेकिन मार्केट जाने के बाद कहीं से भी कैंची मिलती है

तो इस पर राजू ने कहा कि पिताजी रहने दीजिए जब मैं वापस लखनऊ जाऊंगा तो मैं वहां से आपके लिए भेज दूंगा आप इसकी सफाई कर दीजिएगा वह एक दिन जब राजू वापस जाने लगा तो राजू को पिता ने उससे कहा उनसे कहा कि राजू बेटा मेरे लिए एक स्मार्टफोन लाना राजू नहीं बोला ठीक है.

कुछ समय बाद जब राजू अपने पिता से फोन से बात कर रहा था तो राजू के पिता ने राजू से कहा कि बेटा कैंची में भेजना मैं ऑनलाइन मंगा लिया हूं क्या बात सुनते ही राजू की मन में एक सवाल उठा की जो इंसान फोन चला नहीं सकता वह ऑनलाइन चीज कैसे बना सकता है

तभी से राजू के मन में गांव के मजदूर किसानों को मदद करने का एक आईडिया जगा और उसने तुरंत उसे पर काम करना स्टार्ट कर दिया वह एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर थे तो सबसे पहले उन्होंने एक सॉफ्टवेयर डिजाइन किया और अपनी टीम को इंवॉल्व किया सबसे पहले इसमें वह अकेले लेकिन कुछ समय के बाद कुछ लोगों को अपनी टीम में बुलाया और वह साथ मिलकर के काम किए हैं

और अपनी कंपनी के एक सीनियर एंप्लॉई को अपनी आईडी की कंपनी का सीईओ बनाया और खुद कंपनी से रिजाइन हो करके अपने नए प्रोजेक्ट की तरफ चल दिए राजू अगर चाहते तो अपनी बनी बनाई कंपनी ईद की जिससे वह लाखों करोड़ों कमा रहे थे वह अच्छे से अपना जीवन यापन कर सकते थे लेकिन वह गरीबी में जीने के कारण उन्हें हर गरीब किसान का एक-एक समय याद रहता था

इस तरह से उन्होंने अपनी ही कंपनी को छोड़ा और एक नई कंपनी खोलने के लिए चल पड़े.

ग्रामिक क्या है और इसकी शुरुआत कैसे हुई : Raj Yadav Success Story

ग्रामीण एक ऐसा सुविधा है किसान भाइयों के लिए जिसकी मदद से किसान भाई घर बैठे किसी से जुड़ी हुई किसी भी प्रकार की समस्या पूछ सकते हैं और खेती में प्रयोग किए जाने वाले सामान को भी घर बैठे मंगा सकते हैं

इसके लिए आपको ग्रामीण ऐप डाउनलोड करना होगा या ग्रामिक की वेबसाइट पर जाकर मंगाना होगा वैसे तो ग्रामिक के एम्पलाई गांव में या काशन में इसका फ्रेंचाइजी ओपन कर दिए हैं जिससे किसान भाई आसानी से वहां से खेती से जुड़ी चीजों को प्राप्त कर सकते हैं.

इसकी शुरुआत तब हुई जब राज्यों के पिता ने अपने से एक ऑनलाइन कैंची मंगवाई थी जैसे ही राजू के पिता ने यह कैसी मंगाई उसी दिन से राजू के दिमाग में यह बिजनेस आईडियाज आया और वहीं से ग्रामीण की शुरुआत हुई

Raj Yadav Success Story

देखते देखते आज ग्रामीण में डोज से ढाई सौ एंप्लॉय काम करते हैं एक समय ऐसा था जब राजू चाय बेचकर ₹80 दिन का कमाता था और वह आज ऐसा समय है कि वह महीने का 80 लाख सैलरी बढ़ता है ग्रामीण का में ऑफिस पुणे में है और वहीं से वह अपनी हर फ्रेंचाइजी को ऑपरेट करते हैं

राजू ने यह भी बताया कि उसमें काम करने वाली 50% महिलाओं में से 95% की महिला गांव से बिलॉन्ग करती है और राजू का एक सपना है क्योंकि गांव की लड़कियों को पढ़ने की सुविधा नहीं दी जाती थी पहले के समय में ऐसा उनकी बहन के भी साथ हुआ था जिसके कारण राजू आज भी गांव के महिलाओं और लड़कियों को ज्यादा प्रोत्साहित करते हैं.

ग्रामिक में राज यादव का अब तक का सफ़र

अगर हम राजू के चाय बेचने से 300 करोड़ तक कंपनी बनाने की सफर की बात करें तो आज के समय में उनकी कंपनी 300 करोड़ में उसे तीन गुना ज्यादा की कंपनी है वह अपनी लाइफ में हर इच्छा को एक धीरे-धीरे करके आगे बढ़ाया है वह एक बहुत ही गरीब परिवार से उठकर के इतने बड़े मुकाम तक पहुंचे हैं जिससे उन्हें हर एक छोटी और बड़ी चीजों का बहुत ही अच्छे से ज्ञान है

ग्रामिक कंपनी के लिए इन्वेस्टर

ग्रामीण कंपनी आज एक इतनी बड़ी कंपनी हो गई है कि इसमें टॉप लोग इन्वेस्ट करते हैं गोदरेज जैसी कंपनी भी इसमें इन्वेस्ट कर रही है

Raj Yadav Success Story

ग्रामिक का 2026 तक क्या लक्ष्य है ?

एक रिपोर्ट के मुताबिक और राजू ने एक वीडियो के दौरान खुद बताया है कि आने वाले साल 2026 तक वह अपनी कंपनी को 20000 से ज्यादा एंप्लाइज की कंपनी बनाने का दावा कर रहे हैं देखने वाली बात है क्या यह दवा हुआ 2026 तक पूरा कर लेते हैं या नहीं

ग्रामिक कंपनी के टॉप लीडर

Raj Yadav Success Story

निष्कर्ष : आज की इस लेख में हम ग्रामीण कंपनी के फाउंडर राजू यादव के बारे में और उनकी कंपनी के बारे में जाना अगर आप और ज्यादा इस कंपनी के बारे में जानना चाहते हैं तो https://www.gramik.in/ की वेबसाइट पर जाकर देख सकते हैं ऐसे ही बिजनेस की स्टोरी जानने के लिए tazaakhbar.com से जुड़े रहे |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
Which is the best gaming laptop under 50000 Samsung galaxy watch 4 Top 10 sci fi movies hollywood Samsung f15 5g launch date in india Top 10 running shoes in india
Which is the best gaming laptop under 50000 Samsung galaxy watch 4 Top 10 sci fi movies hollywood Samsung f15 5g launch date in india Top 10 running shoes in india